न्युमोकोकल रोग

स्ट्रेप्टोकोकस न्युमोनिया जीवाणु, जिसे न्युमोकोकल जीवाणु, न्युमोकोक्सी (बहुवचन), और न्युमोकोकस (एकवचन) भी कहा जाता है, छोटे बच्चों में रुग्णता का एक प्रमुख कारण है। कम से कम 90 प्रकार के न्युमोकोकल जीवाणु की मौजूदगी के बारे में जानकारी मिली है। जैसा कि नाम से पता चलता है, इनके कारण न्युमोनिया हो सकता है; हालांकि, इन जीवाणुओं के कारण अन्य रुग्णताओं के साथ-साथ रक्तप्रवाह संक्रमण (बैक्टीरिमिया), मेनिंजाइटिस, सिनुसाइटिस, और मध्य कर्ण संक्रमण हो सकते हैं। समग्र रूप से, स्ट्रेप्टोकोकस न्युमोनिया के कारण होने वाली विभिन्न रुग्णताओं को न्युमोकोकल रोग कहा जाता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुमान के मुताबिक वर्ष 2008 में न्युमोकोकल रोग के कारण 5 वर्ष से कम की आयु के बच्चों के मामलों में 476,000 मौंतें हुई। दरअसल, यह बच्चों में टीका-रोकथाम योग्य मौंतों का प्रमुख कारण है और यह विकासशील देशों में विशेष रूप से गंभीर रोग है। न्युमोकोकल रोग के कारण वयस्कों के मामलों में भी मौंतें होती हैं।

लक्षण

न्युमोकोकल रोग के लक्षण जीवाणु के कारण उत्पन्न विशेष रुग्णता के आधार पर अलग-अलग होते हैं। न्युमोकोकल न्युमोनिया के लक्षणों में बुखार, सीने में दर्द, कफ, और सांसों का फूलना शामिल है। जब न्युमोकोक्सी सामान्य रूप से रोगाणुरहित स्थानों को संक्रमित करता है, तब तथाकथित आक्रमक न्युमोकोकल रोग होता है। दो प्रमुख प्रकार के आक्रमक न्योमोकोकल रोग हैं बैक्टीरिमिया और मेनिंजाइटिस (मस्तिष्क और/या स्पाइनल कॉर्ड के आसपास के द्रवों और ऊतकों का संक्रमण)। न्युमोकोकल मेनिंजाइटिस के लक्षणों में शामिल हैं बुखार, सिरदर्द, गरदन की अकड़न, रोशनी के प्रति संवेदनशीलता और दिक्भ्रम। न्युमोकोकल बैक्टीरिमिया स्थानीकृत संक्रमणों को जटिल बना सकता है जैसे न्युमोनिया और इसमें आमतौर पर तेज बुखार और कंपकंपी वाली ठंड लगती है।

प्रसार

अनेक लोगों को बीमार हुए बिना स्ट्रेप्टोकोकस न्युमोनिया होता है। जीवाणु बहुत से स्वस्थ व्यक्ति (बच्चों को छोड़कर 5-10% वयस्क वाहक होते हैं, 27-58% स्कूले बच्चे हैं) के नाकों और गले में मौजूद रहते हैं और खांसने या छींकने द्वारा दूसरे लोगों में फैल सकता है। जो लोग न्युमोकोकल रोग से पीड़ित होते हैं, वे वाहकों की तरह ही जीवाणुओं का प्रसार कर सकते हैं।

सिकल-सेल (लाल खून की कोशिका) रोग से ग्रसित व्यक्तियों में प्रतिरक्षी क्षमता की कमी होती है, या उनमें पुराना गुर्दे का रोग होता है, वे लोग जो इम्युनोसप्रेसिव दवाइयां लेते हैं या कॉक्लियर इम्प्लांट का प्रयोग करते हैं, उनमें न्युमोकोकल संक्रमण का खतरा अधिक होता है। सिगरेट पीने से भी तेजी से फैलने वाले न्युमोकोकल रोग का खतरा बढ़ जाता है।

उपचार और देखभाल

न्युमोकोकल रोग के इलाज के लिए एंटीबायोटिक्स का प्रयोग किया जाता है, लेकिन जीवाणु के कुछ स्ट्रैंस ने अपने खिलाफ इस्तेमाल होने वाली कुछ दवाओं के लिए प्रतिरोधी क्षमता विकसित कर लिया है। दवा के खिलाफ प्रतिरोध के कारण उपचार की जटिलता बढ़ जाती है और अस्पताल में भर्ती की अवधि बढ़ जाती है।

जटिलताएं

तेजी से फैलने वाला न्युमोकोकल रोग और न्युमोकोकल न्युमोनिया अत्यंत गंभीर होते हैं और प्राय: अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत होती है। न्युमोकोकल बैक्टीरिमिया (रक्तप्रवाह संक्रमण) के कारण ऊतक नष्ट हो सकते हैं और अंगुलियों, अंगूठों और पादों का विच्छेदन हो सकता है। न्युमोकोकल मेनिंजाइटिस से उबरे हुए लोगों को स्थायी जख्म हो सकते हैं जिसमें मस्तिष्क की क्षति, दौरा या श्रवण क्षमता की क्षति शामिल हैं। गंभीर न्युमोकोकल रोग के सभी रूप जानलेवा हो सकते हैं।

उपलब्ध टीके और टीकाकरण अभियान

न्युमोकोकल के टीकों का निर्माण उस जीवाणु जनित सेरोटाइप से सुरक्षा के लिए किया जाता है जिसके कारण न्युमोकोकल रोग के अधिकांश मामले होते हैं। तीन प्रकार के न्युमोकोकल कॉन्जुगेट टीके होते हैं (PCVs) जिसके अंतर्गत 7 (PCV7) आते हैं, 10 (PCV10), और 13 (PCV13). एक अनकॉन्जुगेट टीका, जिसमें 23 सेरोटाइप्स (PPSV23) शामिल हैं, भी उपलब्ध है। अनकॉन्जुगेट टीका एक पॉलिसैकराइड टीका होता है, और, सभी पॉलीसेकराइड टीकों के तरह ही यह भी वयस्कों में अधिक प्रभावी होता है क्योंकि यह दो वर्ष के कम की आयु वाले बच्चों में सतत रूप से प्रतिरक्षा क्षमता का निर्माण नहीं करता।

टीकाकरण की अनुशंसाएं

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सभी नवजात शिशुओं को PCV देने की अनुशंसा की है। समूह इस बात पर जोर देता है कि उन देशों को, जहां बाल मृत्यु दर बहुत अधिक है, नियमित नवजात प्रतिरक्षण में टीका को शामिल किए जाने की प्राथमिकता देनी चाहिए। टीके 2 या 3 प्राथमिक खुराकों में दिए जाते हैं जो 2 महीने की आयु से शुरू होता है, और इसके बाद एक बूस्टर खुराक दी जाती है।

पॉलीसेकराइड (PPSV23) के टीका द्वारा अतिरिक्त प्रतिरक्षा की अनुशंसा कुछ निश्चित खास स्वास्थ्य दशाओं वाले बच्चों के लिए की गई है। PPSV23 टीका की भी अनुशंसा 65 की आयु तक के वयस्कों के लिए की गई है जिनमें न्युमोकोकल रोग के कुछ जोखिम कारक मौजूद होते हैं, जिसमें अस्थमा और सिगरेट स्मोकिंग शामिल है।


स्रोत

सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन। Pneumococcal disease. Epidemiology and Prevention of Vaccine-Preventable Diseases. Atkinson W, Wolfe S, Hamborsky J, McIntyre L, eds. 13th ed. Washington DC: Public Health Foundation, 2015. (579 KB).  28/3/2017 को प्रयुक्त .

सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन। Vaccines and preventable diseases: pneumococcal disease. 28/3/2017 को प्रयुक्त .

सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन। Pneumococcal disease: recommendations of the Advisory Committee on Immunization Practices (ACIP). MMWR. 1997;46(RR-08); 1-24. 28/3/2017 को प्रयुक्त .

सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन। Recommendations of the Immunization Practices Advisory Committee (ACIP) update: pneumococcal polysaccharide vaccine usage -- United States. MMWR. 1984:33(20);273-6,281.  28/3/2017 को प्रयुक्त।

सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन। Use of 13-valent pneumococcal conjugate vaccine and 23-valent pneumococcal polysaccharide vaccine among adults aged /= 65 years: Recommendations of the Advisory Committee on Immunization Practices (ACIP). MMWR.  2014:63(37);822-825. 28/3/2017 को प्रयुक्त ।

Gavi. Pneumococcal vaccine support. 28/3/2017 को प्रयुक्त।

विश्व स्वास्थ्य संगठन। Pneumococcal vaccines: WHO position paper. April 2012. (150KB). 28/3/2017 को प्रयुक्त.

विश्व स्वास्थ्य संगठन। Pneumococcal disease. 28/3/2017 को प्रयुक्त।

 

PDFs पढ़ने के लिए, Adobe Reader डाउनलोड करें और इंस्टॉल करें।

अंतिम अपडेट 28 मार्च 2017