चेचक(छोटी चेचक)

चेचक को छोटी माता के नाम से भी जाना जाता है, यह एक ऐसी बीमारी होती है जो वेरिसेला जोस्टर वायरस (VZV) से पैदा होती है। छोटी चेचक दुनिया भर में पाया जाता है। एक प्रभावी प्रतिरक्षी कार्यक्रम की अनुपस्थिति में यह रोग वयस्क अवस्था तक प्रायः प्रत्येक व्यक्ति को अपना शिकार बनाता है।

लक्षण

बच्चों में चेचक का पहला लक्षण प्रायः एक खुजली वाले चकत्ते से उभरता है, जो सिर पर दिखाई पड़ते हैं और फिर ये धड़ और शरीर के अन्य हिस्सों में फैलने लगते हैं। ये चकत्ते अधिक उभर आते हैं और फोड़े में बदल जाते हैं। ये फोड़े श्लेष्मा झिल्लियों पर भी उग सकते हैं, जैसे कि मुंह के भीतर, नाक में, गले और योनि में। फोड़े फट जाते हैं और 10-14 दिनों के भीतर गायब होने लगते हैं। वयस्कों में चेचक के पहले लक्षण के रूप में चकत्ते आने से कुछ दिन पहले बुखार और थकावट आ सकते हैं। बच्चों में भी चकत्ते के साथ बुखार और थकावट आ सकते हैं।  

जिन लोगों में चेचक होता है, उनमें आगे चलकर दाद होने की संभावना होती है, जो तब उत्पन्न होता है जब वेरिसेला जोस्टर वायरस सक्रिय होते हैं। असामान्य मामलों में चेचक के लिए टीकाकरण से भी दाद उत्पन्न हो सकते हैं।

प्रसार

चेचक आसानी से एक व्यक्ति से दूसरे में फैलता है। लगभग 90% अप्रतिरक्षित घरों में चेचक के शिकार व्यक्ति के साथ संपर्क में आने से चेचक से संक्रमित होते हैं।

चेचक का प्रसार संक्रमित श्वसन नली के स्रावों, श्वसन बूंदों तथा फोड़ों से निकले तरल पदार्थ के जरिए होता है। VZV के लिए ऊष्मायन अवधि 10-21 दिनों का है। कोई व्यक्ति चकत्ते उभरने से लेकर फोड़े के फटने और तरल पदार्थ के बहने से एक या दो दिन पूर्व में संक्रमित हो सकता है।

उपचार तथा देखभाल

चेचक का कोई इलाज नहीं है। चेचक के इलाज के लिए दर्द निवारक दवाओं तथा खुजली वाले चकत्ते, फोड़े तथा पपड़ियों का उपचार शामिल होते हैं।

छोटी चेचक के गंभीर मामलों में वायरस निरोधी ड्रग्स से बीमारी की अवधि को कम किया जा सकता है। ये प्रायः जटिलताओं के उच्चतम जोखिम वाले लोगों को प्रारंभिक अवस्था में दिए जाते हैं, जिनमें बीमार बच्चे तथा गर्भवती महिलाएं भी शामिल होती हैं।

जटिलताएं

चेचक प्रायः बच्चों में एक हल्की बीमारी होता है और उनमें कुछ खास जटिलताएं नहीं देखी जाती हैं। हालांकि, कुछ मामलों में घावों से जुड़े द्वितीयक जीवाणु संक्रमण पैदा हो सकता है। अन्य संभव जटिलताओं में शामिल हैं न्युमोनिया और न्युरोलॉजिकल जटिलताएं। ये जटिलताएं 1 वर्ष से कम आयु वाले बच्चों और 15 वर्ष से ऊपर की आयु वाले किसी भी व्यक्ति में और ऐसे लोगों में अधिक पैदा हो सकती हैं, जिनका प्रतिरक्षी तंत्र कमजोर हो। गर्भावस्था में चेचक का संक्रमण माता के गर्भावस्था व नवजात शिशु के लिए खतरनाक हो सकता है।

उपलब्ध टीके

छोटी चेचक को टाका लगाकर रोका जा सकता है। पहली ख़ुराक 1 वर्ष की आयु में और दूसरी ख़ुराक लगभग 4-6 वर्ष की आयु में दिया जाता है। चेचक की एकल ख़ुराक से इसके होने की 70-90% संभावना घट जाती है और इसकी दो ख़ुराकों से इसके घटने की संभावना इससे भी अधिक हो जाती है। यह टीका विकासशील देशों में व्यापक रूप से उपलब्ध नहीं है। हालांकि इसका अब विकासशील देशों में अधिक इस्तेमाल किया जा रहा है।

चेचक टीका एक जीवित दुर्बल टीका होता है और इसे कमजोर प्रतिरक्षी तंत्र वाले लोगों के लिए नहीं सुझाया जाता है। यह एकल टीके के रूप में उपलब्ध है और कुछ देशों में यह एमएमआरवी टीके (खसरा, गलसुआ, रुबेला तथा छोटी चेचक का टीका) के रूप में भी उपलब्ध है।

जब चेचक टीका लगे व्यक्ति में होता है, तब इन मामलों को ब्रेकथ्रू केस के रूप में जाना जाता है। ब्रेकथ्रू केस प्रायः बिना टीका लगे व्यक्तियों में रोग की तुलना में अत्यंत हल्के होते हैं।

टीकाकरण के सुझाव

ऐसे देशों में जिन्होंने वेरिसेला रोग को कम करने के एक व्यापक कार्यक्रम के एक अंग के रूप में छोटी चेचक प्रतिरक्षा अपनाया है, उनके लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन वेरिसेला टीके की दो ख़ुराकों का सुझाव देता है।


स्रोत

Bialek SR, Perella D, Zhang J, Mascola L, Viner K,  Jackson C, Lopez AS, Barbara Watson B, Civen R. Impact of a routine two-dose varicella vaccination program on varicella epidemiology. Pediatrics. peds.2013-0863;doi:10.1542/peds.2013-086

सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन। Varicella. In: Epidemiology and Prevention of Vaccine-Preventable Diseases, 13th ed. 2015.  29/3/2017 को प्रयुक्त।

सेंटर्स फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन। Prevention of varicella. Recommendations of the Advisory Committee on Immunization PracticesMMWR. 2007;56(RR04);1-40.  29/3/2017 को प्रयुक्त।

विश्व स्वास्थ्य संगठन। Varicella and herpes zoster vaccine: WHO position paper. 2014;89:265-28829/3/2017 को प्रयुक्त।

 

अंतिम अपडेट 29 मार्च 2017